Tag: Gar Ghaltiyan Babar ki thin jumman ka ghar fir kyun jale by Adam Gondavi

ग़र ग़लतियां बाबर की थीं जुम्मन का घर फिर क्यों जले: अदम गोंडवी की कविता

ग़र ग़लतियां बाबर की थीं जुम्मन का घर फिर क्यों जले: अदम गोंडवी की कविता

इतिहास अपने आप को ख़ुद ही करेक्ट कर लेता है, बशर्ते हमें उसकी दुखती रगों को बार-बार नहीं छेड़ना चाहिए. ...

अन्य

ईमेल सब्स्क्रिप्शन

नए पोस्ट की सूचना मेल द्वारा पाने हेतु अपना ईमेल पता दर्ज करें

Join 4 other subscribers

Recommended

Welcome Back!

Login to your account below

Retrieve your password

Please enter your username or email address to reset your password.

Add New Playlist