स्वामी विवेकानंद की देशभक्ति की अवधारणा, जो बताती है देशप्रेम के असल मायने

स्वामी विवेकानंद की देशभक्ति की अवधारणा, जो बताती है देशप्रेम के असल मायने

आज जबकि अपने देश के लोगों के बीच ही ‘हम’ और ‘वे’; ‘देशभक्त’ और ‘देशद्रोही’ जैसी स्पष्ट रेखाएं खींची जा...

Dr-Baba-Saheb-Ambedkar_Article

मेरी कल्पना का आदर्श समाज: बाबा साहेब आंबेडकर का लेख, जो जाति-प्रथा की ज़रूरत पर सवाल उठाता है

जीवनभर दलित मुक्ति और अधिकारों के लिए लड़ते रहनेवाले डॉ बाबा साहेब आंबेडकर अपने समय के बड़े चिंतकों, फ़िलॉसफ़र्स में...

Bhagat-Singh_Articles

सांप्रदायिक दंगे और उनके इलाज: भगतसिंह का लेख जिसमें उन्होंने अख़बारों की भूमिका पर सवाल उठाया है

देश में जगह-जगह धार्मिक ध्रुवीकरण का माहौल बन रहा है. किसी के हिंदू या मुसलमान होने के कारण हम उसे...

Pandit-Jawaharlal-Nehru_Articles

भारत माता: पंडित जवाहरलाल नेहरू का लेख जो बताता है वह भारत माता कौन हैं, हम जिनकी जयजयकार करते हैं

शांति, अहिंसा और मानवता के हिमायती भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु ने न केवल आज़ादी के आंदोलन में...

Ganesh-Shankar-Vidyarthi_Photo_Lekh

धर्म की आड़: गणेशशंकर विद्यार्थी का 90 साल पहले लिखा लेख, जो आज भी उतना ही ज़रूरी है

कानपुर में वर्ष 1931 में मचे सांप्रदायिक दंगों को शांत करवाने के प्रयास में अपनी जान की बलि देनेवाले स्वतंत्रता...

Page 1 of 7 1 2 7

ईमेल सब्स्क्रिप्शन

नए पोस्ट की सूचना मेल द्वारा पाने हेतु अपना ईमेल पता दर्ज करें

Join 4 other subscribers

Recommended

Welcome Back!

Login to your account below

Retrieve your password

Please enter your username or email address to reset your password.

Add New Playlist